बढ़िया डाइट और हेल्दी लाइफस्टाइल वर्कप्लेस पर बेहतर काम करने में मदद कर सकता है: ऋषि सुनक – TV9 Bharatvarsh

TV9 Bharatvarsh | Edited By:
Updated on: Oct 29, 2022 | 11:30 AM
ब्रिटेन में आर्थिक अनिश्चितता के इस दौर में नए ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक के पास काफी अहम मुद्दे हैं जिनसे उन्हें निपटना होगा. लेकिन राष्ट्र के स्वास्थ्य को प्राथमिकता देना और खराब डाइट और अनहेल्दी बॉडी वेट के खिलाफ एक्शन लेना उनके एजेंडे में सबसे ऊपर होना चाहिए. मौजूदा एंटी-ओबेसिटी कानून के बने रहने से न केवल लोगों के स्वास्थ्य को फायदा होगा, बल्कि यह यूके की अर्थव्यवस्था को भी बढ़ावा देगा. हेल्दी डाइट के जरिए लोग ज्यादा बेहतर तरह से काम कर सकते हैं, जो वर्कप्लेस की प्रोडक्टिविटी बढ़ाता है और NHS पर लाखों पाउंड के सरकारी खर्च में कटौती करने में मदद करता है.
सितंबर 2022 में लिज ट्रस की सरकार ने इंग्लैंड के लिए ओबेसिटी स्ट्रेटेजी को रिव्यू करने का आदेश दिया. इस रिव्यू में शुगर ड्रिंक मैन्युफैक्चरर पर कर को खत्म करने की संभावना और रात 9 बजे से पहले टीवी पर और रिटेल आउटलेट में अनहेल्दी फूड की ऑनलाइन मार्केटिंग को सीमित करना शामिल है. ट्रस के no “nanny state” भाषणों के बावजूद 1 अक्टूबर 2022 को कानून लागू हुआ, जो रिटेलरों द्वारा अनहेल्दी फूड को प्रमोट करने से रोकता है. इंग्लैंड के सभी स्टोरों को अब प्रमुख जगहों जैसे एंट्रेंस और चेकआउट में अनहेल्दी फूड रखने की इजाजत नहीं है.
यह पूरे कानून का एक संक्षिप्त ब्योरा है जो अनहेल्दी फूड प्रोडक्ट पर “एक के साथ एक फ्री” जैसे प्रमोशन (प्रचारों) पर भी प्रतिबंध लगाता है. परिवारों को भोजन की बढ़ती लागत से निपटने में मदद करने के लिए बोरिस जॉनसन सरकार ने जानबूझकर अक्टूबर 2023 तक इसे लाने में देरी की. दुर्भाग्य से यह साबित हुआ है कि इस तरह के प्रमोशन से लोगों द्वारा खरीदे और खाए जाने वाले अनहेल्दी फूड की मात्रा बढ़ जाती है.
यह कानून स्टोर लेआउट के लिए एक अच्छी शुरुआत है जो लोगों को हेल्दी विकल्प चुनने के लिए प्रेरित करता है. हमारे रिसर्च ग्रुप ने दिखाया है कि अनहेल्दी फूड को स्टोर के एंट्रेंस, चेकआउट जैसी प्रमुख जगहों से दूर ले जाना और वहां उनकी जगह हेल्दी फूड रखना लोगों की खरीदारी की आदतों को बेहतर तरीके से बदल सकता है.
इस नए कानून की घोषणा के बाद कई रिटेलरों ने बेहतरी के लिए बदलाव किए हैं. उन्होंने इसकी जटिलता को समझने में समय और पैसा लगाया है, दुकानों को फिर से तैयार किया है, ट्रायल करना कि कौन से हेल्दी प्रमोशन काम करते हैं, और हेल्दी बनाने के लिए प्रोडक्ट इनग्रीडिएंट को बदलना ताकि उनकी मार्केटिंग जारी रख सकें.
हालांकि कुछ स्टोर कानून में खामियों का फायदा उठा रहे हैं. उदाहरण के लिए, कुछ आउटलेट्स दुकान के अंत में शराब का प्रमोशन कर रहे हैं और बिक्री को बढ़ावा देने के लिए गलियारे के बीच में मिठाई, क्रिस्प और शुगर युक्त पेय के नए प्रमोशन डिसप्ले कर रहे हैं. कानून का शत-प्रतिशत पालन नहीं हो रहा है.
हमारी रिसर्च टीम ने कंज्यूमर (उपभोक्ताओं), बिजनेस (व्यवसायों), हेल्थ वर्कर (स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं) और कानून लागू करने वालों से पूछा कि वे इस नए कानून के बारे में क्या सोचते हैं. हमने इसकी जटिलता को समझने में मदद करने के लिए एक सम्मेलन भी आयोजित किया. अधिकांश लोगों का मानना है कि नया कानून बेहतर खाने का विकल्प चुनने में सभी की मदद कर सकता है, लेकिन जैसा कि पिछले कुछ हफ्तों से पता चला है कि दुकानों में नियमों को कैसे लागू किया जाता है, इस पर नजर रखने की जरूरत है, और सरकार को मौजूदा कानून में खामियों को दूर करने के लिए और मेहनत करनी होगी.
व्यवसायों, विशेष रूप से छोटे और मध्यम आकार के व्यवसायों को भी नए कानून को नेविगेट करने के लिए अतिरिक्त समर्थन से फायदा होगा, क्योंकि उनके पास कानूनी समर्थन नहीं है जो बड़ी कंपनियों के पास होता है. सालों तक चली महामारी की वजह से अतिरिक्त वित्त के बिना स्थानीय अधिकारियों की दीर्घकालिक स्वास्थ्य चिंताओं को प्राथमिकता देने की क्षमता बहुत कम है.
अनहेल्दी डाइट और मोटापे से निपटने के लिए जंक फूड साइकिल को तोड़ना होगा. सरकार को ऐसी नीतियां बनाने की जरूरत है जो समस्या की जड़ को खत्म कर सके. फूड इंडस्ट्री और उसके कस्टमर जंक फूड साइकिल के जाल में फंसे हैं, जहां अनहेल्दी फूड को बनाना सस्ता है, मुनाफा ज्यादा, वहीं खाने और देखने में टेस्टी और खरीदने में सस्ते हैं.
जंक फूड साइकिल को तोड़ने के लिए UK सरकार के एंटी-ओबेसिटी कानून को कायम रखा जाना चाहिए और इसका विस्तार किया जाना चाहिए. यह जानना कि ये नीतियां लोगों द्वारा खरीदे और खाए जाने वाले फूड को कैसे प्रभावित करती हैं, यह साबित करेगा कि यह अपने मकसद में कितने हद तक कामयाब हुआ.
कानून के प्रति निरंतर प्रतिबद्धता जो व्यवसायों पर प्रतिबंधित लगाती है कि वो अनहेल्दी फूड को कितना बढ़ावा दे सकते हैं और उनका विज्ञापन कर सकते हैं और उन्हें स्टोर में खास जगह से हटाना ताकि लोग बेहतर विकल्पों पर ध्यान दें. इस गंभीर समस्या से निपटने के लिए उठाए गए कदम ग्लोबल लीडर के रूप में यूके सरकार की स्थिति को और मजबूत करेंगे.
Channel No. 524
Channel No. 320
Channel No. 307
Channel No. 658

source
– (Ujjwal Duniya)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Verified by MonsterInsights