दूसरी बार प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हुई हिसंक झड़प के बाद भाकपा माले के बगोदर विधायक आये सामने

किसान मंच के सदस्यों ने किया आत्मदाह का प्रयास, पुलिस ने किया बल प्रयोग, शहर की विधि-व्यवस्था हुई खराब

फौरन प्रशासनिक अमला एक्टिव होकर अंबेडकर चौक पहुंच आत्मदाह करने जा रहे किसान मंच के सदस्यों को रोका

गिरिडीह अमित सहाय
किसान मोर्चा के प्रदर्शनकारी अपनी मांगों को लेकर दो दिनों से लगातार आंदोलन कर रहे हैं।प्रशासनिक व्यवस्था से तंग आकर किसान मंच सदस्यों ने आत्मदाह तक करने को मजबूर हो गए। रजिस्टर-टू की नकल बगैर किसी चढ़ावे के रिकार्ड रूम से उपलब्ध कराना, दूसरा किसान मोर्चा के नेता अवद्येश सिंह को जेल से रिहा करने की मांग को लेकर बुधवार को मंच के सदस्यों ने कड़ा रुख अख्तियार कर लिया। बुधवार को काफी संख्या में मंच के सदस्य हाथों में पेट्रोल लिए आत्मदाह करने को लेकर अंबेडकर चौक पहुंच गए।
मामले की सूचना मिलते ही नगर थाना प्रभारी राम नारायण चौधरी दलबल के साथ अंबेडकर चौक पहुंचेे और मंच सदस्यों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन मंच सदस्य थाना प्रभारी से ही उलझ पड़े। इसके बाद एसडीएम विशालदीप खलको, एसडीपीओ अनिल कुमार सिंह, डीएसपी संजय राणा भी मौके पर पहुंचकर सभी को समझाया।

स्थानीय प्रशासन का दावा है कि मंगलवार को शहर के टावर चौक पर हुए हंगामे और धक्का-मुक्की के बाद आंदोलनकारियों को रजिस्टर-टू की नकल देने की योजना पर कार्य शुरू कर दिया गया था। इसके लिए डीसीएलआर के द्वारा रिकार्ड रूम से ऐसी व्यवस्था की जा रही थी कि हर व्यक्ति को सुविधानुसार नकल मिल सके।
जबकि दूसरी मांग पर प्रशासन का कहना है कि मोर्चा के नेता अवद्येश सिंह इसी मुद्दे से जुड़े एक पुराने केस में कोर्ट की अनुमति पर जेल भेजे गये हैं। लिहाजा, दूसरी डिमांड को पूरा करना प्रशासन के हाथ में नहीं है।
लेकिन बुधवार को दूसरी बार प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हुई हिसंक झड़प के बाद भाकपा माले के बगोदर विधायक बिनोद सिंह और माले नेता राजेश यादव अपनी उचित मांगों को लेकर किसानों का आंदोलन चल रहा है. लेकिन स्थानीय प्रशासन मांगों को पूरा करने के बजाय किसानों पर दमन की कार्रवाई कर रहा है. विधायक बिनोद सिंह ने इस दौरान यह भी कहा कि इस ज्वलंत मुद्दे पर माले पूरी तरह से किसानों के समर्थन में है. प्रशासन को नजरअंदाज करने से नहीं चलेगा.
गौरतलब है कि इस बाबत एसडीएम विशालदीप खलको ने बताया कि अचानक से मंच के लोगों द्वारा यह कदम उठाया गया। हल्का बल प्रयोग कर सभी को गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.