आपके लिए बेहद जरूरी है कोरोना वैक्सीनेशन से जुड़े इन सवालों के जवाब जानना

देश में कोरोना वैक्सीन आ चुकी है. वैक्सीनेशन की पुरजोर तैयारी चल रही है. इधर, वैक्सीन व वैक्सीनेशन को लेकर तरह-तरह की बातें हो रही है. आम से लेकर खास लोगों में कई तरह की शंकाएं हैं. ऐसे में ujjwajduniya आपके लिए कुछ एसे सवाल-जवाब प्रस्तुत कर रहा है, जो आपके लिए बेहद उपयोगी होगा. आपके शंकाओं का समाधान होगा और आपकी जानकारी बढ़ेगी. तो आइये जानते हैं क्या है सवाल-जवाब…

सवाल : क्या कोई व्यक्ति बिना पंजीकरण के कोरोना वैक्सीन प्राप्त कर सकता है ?

जवाब : नहीं, कोरोना वैक्सीन के लिए पंजीकरण अनिवार्य है, पंजीकरण के बाद ही सत्र, स्थल और समय की जानकारी साझा की जाएगी.

सवाल : यदि कोई व्यक्ति स्थल पर फोटो आईडी दिखाने में असमर्थ है तो क्या उसे वैक्सीन लगाया जाएगा ?

जवाब : फोटो आईडी पंजीकरण स्थल पर पंजीकरण और सत्यापन दोनों के लिए ज़रूरी है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इच्छित व्यक्ति को वैक्सीन लगाया गया है.

सवाल : पात्र लाभार्थी के पंजीकरण के लिए कौन से दस्तावेज आवश्यक हैं ?

जवाब : पंजीकरण के समय फोटो के साथ नीचे उल्लेखित पहचान पत्र में से कुछ भी दिखाया जा सकता है-

इसे भी पढ़ें- वो कौन है जो लेना चाहता है इसरो के प्रमुख वैज्ञानिक की जान ?

आधार/ड्राइविंग लाइसेंस/वोटर आईडी/पैन कार्ड/पासपोर्ट/जॉब कार्ड/पेंशन दस्तावेज
स्वास्थ्य मंत्रालय की योजना के तहत ज़ारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड
महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोज़गार गारंटी कार्ड( मनरेगा)
सांसदो/विधायकों/एमएलसी को ज़ारी किए गए आधिकारिक प्रमाण पत्र
बैंक/पोस्ट ऑफिस द्वारा ज़ारी पास बुक
केंद्र/राज्य सरकार/पब्लिक लिमिटेड कंपनियों द्वारा ज़ारी सेवा आईडी कार्ड
सवाल : क्या यह वैक्सीन सुरक्षित होगी, क्योंकि इसे बहुत कम समय में बनाया गया है ?

जवाब : सुरक्षा और प्रभाव के data की जांच के आधार पर ही नियामक निकायों द्वारा vaccine को मंज़ूरी दी गई है.

सवाल : क्या वैक्सीन लेना अनिवार्य है.

जवाब : कोरोना के लिए वैक्सीनेशन स्वैच्छिक है. हालांकि स्वयं की सुरक्षा और बीमारी के प्रसार को सीमित करने के लिए कोरोना

वैक्सीन की पूरी ख़ुराक आवश्यक है.

सवाल : यदि कोई कैंसर, मधुमेह, उच्च रक्तचाप आदि जैसी बीमारियों की दवा ले रहा है, तो क्या वह कोरोना वैक्सीन ले सकता है?

जवाब : हां, इनमें से एक या एक से अधिक स्वास्थ्य परिस्थितियों वाले व्यक्तियों को एक उच्च जोख़िम वाली श्रेणी माना जाता है, उन्हें कोरोना की वैक्सीन लेने की आवश्यकता है.

इसे भी पढ़ें- हजारीबाग मेडिकल कॉलेज अस्पताल के एक्सरे टेक्नीशियन की कोरोना से मौत

सवाल : क्या Healthcare Providers और Frontline Workers के परिवार को भी वैक्सीन दिया जाएगा ?

जवाब : प्रारंभिक चरण में सीमित वैक्सीन की आपूर्ति के कारण, इसे पहले प्राथमिकता वाले समूहों में लोगों को प्रदान किया जाएगा. बाद के चरणों में, वैक्सीन सभी को उपलब्ध कराया जाएगा.

सवाल : वैक्सीन की कितनी खुराक़ किस अंतराल पर लेनी होगी ?

जवाब : वैक्सीनेशन पूरा करने के लिए 28 दिन के अंदर एक व्यक्ति द्वारा वैक्सीन की दो खुराक़ ली जानी चाहिए

सवाल : खुराक़ लेने के बाद बाद एंटीबॉडी कब विकसित होगी ?

जवाब : कोरोना वैक्सीन की दूसरी खुराक़ प्राप्त करने के दो सप्ताह बादआमतौर पर एंटीबॉडी का सुरक्षात्मक स्तर विकसित होता है

सवाल : क्या कोरोना से ठीक हुए व्यक्ति को भी वैक्सीन लेना आवश्यक है ?

जवाब : हां। वैक्सीन की पूरी खुराक़ लेना आवश्यक है क्योंकि यह एक मज़बूत प्रतिक्रिया तंत्र विकसित करने में मदद करेगा।

सवाल : क्या कोरोना ( पुष्ट/संदिग्ध) संक्रमित व्यक्ति को भी वैक्सीन लगाया जा सकता है?

जवाब : संक्रमित व्यक्तियों को लक्षण खत्म होने के 14 दिन बाद तक वैक्सीनेशन स्थगित करना चाहिए क्योंकि वे वैक्सीनेशन स्थल पर दूसरों में वायरस फ़ैलाने का जोख़िम बढ़ा सकते हैं